Simplifying Train Travel

न लेनी पड़े ये छूट, तो ही अच्छा है!

भारतीय रेलवे के विभिन्न नियमों में कई प्रकार के यात्रियों को उनकी यात्राओं के टिकट पर छूट देने का प्रावधान है। रेलवे के इन्हीं नियमों में से एक नियम चुनिंदा बीमारी के मरीजों के लिए भी हैं । पढ़िए और विस्तार से जान लीजिये कि वो कौन-कौन सी बीमारियाँ हैं जिसके मरीज़ अपनी यात्रा के किराए पर 50 से 100 प्रतिशत की छूट प्राप्त कर सकते हैं ।

कैंसर

Railway concession rules

देश दुनिया में तेज़ी से फ़ैल रही कैंसर की बीमारी से जूझ रहे मरीज़ अपने इलाज के लिए की गई किसी भी यात्रा के लिए 50 से लेकर 100 प्रतिशत की छूट प्राप्त कर सकते है। बड़ी बात ये है कि यह छूट सिर्फ मरीज़ ही नहीँ बल्कि उसके एक सहयोगी (अटेंडर) के लिए भी मान्य होती है। नियम के तहत कैंसर के मरीज़ यदि स्लीपर क्लास या तृतीय श्रेणी के ऐसी डिब्बे में यात्रा करते हैं तो उनकी ये यात्रा 100 नि:शुल्क होती हैं । वहीँ किराए पर 75 प्रतिशत की छूट वे प्रथम एवं द्वितीय श्रेणी ऐसी चेयरकार की यात्रा कर प्राप्त कर सकते हैं । यदि कैंसर का मरीज़ प्रथम या द्वितीय श्रेणी की ऐसी बोग्गी की यात्रा करता है तो वो अपने किराये में 50 प्रतिशत की छूट प्राप्त करता है।

दिल की बीमारी

Railway concession for patients

दिल के बीमारी के मरीज़ को रेल किराए में 75 प्रतिशत की छूट प्राप्त करने के लिए (प्रथम, द्वितीय श्रेणी स्लीपर क्लास 3 टियर या ऐसी चेयरकार) की यात्रा करनी होगी। वहीँ 50 प्रतिशत की छूट के लिए मरीज़ को (फर्स्ट क्लास ऐसी या 2 टियर ऐसी) की यात्रा करनी होती हैं ।

किडनी रोग के मरीज़

किडनी रोग के ग्रसित कोई मरीज़ यदि (प्रथम, द्वितीय श्रेणी, स्लीपर क्लास 3 टियर या ऐसी चेयरकार) की यात्रा अपनी किडनी ट्रांसप्लांट डाईलेसिस या ऑपरेशन के लिए करता है तब उसे किराए पर 75 प्रतिशत की छूट प्राप्त होती हैं । वहीँ यदि मरीज़ (फर्स्ट क्लास ऐसी या 2 टियर ऐसी) में यात्रा करता है तब उसे टिकट किराए पर 50 प्रतिशत की छूट प्राप्त होती है।

एड्स पीड़ित के लिए

यदि कोई एड्स पीड़ित अपने इलाज के लिए रेलयात्रा करता है तब वह सेकंड क्लास की यात्रा करने पर 50 प्रतिशत की छूट प्राप्त करता है। उसके साथ यात्रा करने वाले एक अटेंडर को भी रेलवे द्वारा सेकंड क्लास की सीट पर 50 प्रतिशत की छूट मिलती हैं ।

उपरोक्त बताई गई बिमारियों के अलावा भी कई ऐसी बीमारियाँ है जिनके पीड़ित मरीजों को रेलवे द्वारा किराए में विशेष छूट दी जाती हैं । संक्षेप में उनकी जानकारी भी आपकी सहायता के लिए इस लेख में हैं । 

छूट संबंधी फार्म डाउनलोड करें

थेलेसिमिया रोगी के लिए

खून से जुड़ी इस बीमारी के मरीजों को भी रेलवे द्वारा (प्रथम द्वितीय श्रेणी, स्लीपर क्लास 3 टियर या ऐसी चेयरकार) की यात्रा पर 75 प्रतिशत की छूट दी जाती है। वहीँ यदि मरीज़ (फर्स्ट क्लास ऐसी या 2 टियर ऐसी) में यात्रा करता है तब वह किराए पर 50 की छूट ले सकता है।

टीबी के मरीजों के लिए

टीबी के मरीज़ अपनी (फर्स्ट क्लास एवं सेकंड क्लास ऐसी एवं स्लीपर श्रेणी) की रेलयात्रा के लिए 75 प्रतिशत की छूट पा सकते हैं।

गैर संक्रमित कुष्ठरोग

त्वचा की इस घातक बीमारी के मरीज भी अपने इलाज चिकित्सीय जांच के लिए की गई रेलयात्रा पर 75 प्रतिशत की छूट प्राप्त कर सकते हैं। रेलवे किराए संबंधी ये छूट (फर्स्ट क्लास एवं सेकंड क्लास ऐसी एवं स्लीपर) की यात्रा पर उपलब्ध है।

हीमोफिलिया

यह एक अनुवांशिक रोग है जिसके मरीज़ का रक्तस्राव छोटी सी चोट पर भी नहीं रुकता, ये एक जानलेवा बीमारी है। हालाँकि भारत में इसके रोगियों की संख्या काफी कम हैं फिर भी इसके मरीज़ भी अपनी रेलयात्रा के किराए पर 75 प्रतिशत की छूट के हक़दार हैं । यह छूट पीड़ित यात्री को (फर्स्ट क्लास एवं सेकंड क्लास थर्ड क्लास ऐसी एवं ऐसी चेयरकार) की यात्रा पर मिलती है।

ओस्टोमी के पीड़ितों के लिए

यह एक छिपी हुई बीमारी है। इसके मरीज़ भी अपनी रेलयात्रा के किराए पर कुछ निश्चित श्रेणियों के किराए पर छूट प्राप्त कर सकते हैं। यात्रियों को उनकी मासिक एवं तिमाही रेलयात्रा पर 50 प्रतिशत की छूट मिलती हैं ।

एनीमिया रोगियों के लिए

खून की कमी की इस बीमारी के रोगियों को भी रेलवे द्वारा यात्रा किराए पर विशेष छूट दी जाती हैं । एनीमिया का कोई भी रोगी अपनी यात्रा के लिए 50 प्रतिशत की छूट (स्लीपर ऐसी चेयर ऐसी 2 टियर एवं 3 टियर) श्रेणी की टिकटों पर प्राप्त कर सकता है।

नोट लेख में बताई गयी बीमारी के मरीजों के अलावा उनके साथ यात्रा करने वाले एक सहायक अटेंडर को भी रेलवे द्वारा यह छूट दी जाती है।

चुकी मरीज़ को यह छूट प्राप्त करने के लिए अपने बीमारी संबंधी दस्तावेज स्थानीय रेलवे स्टेशन से सत्यापित करवाने होते है। इसलिए ये छूट ऑनलाइन टिकट बुकिंग सेवा द्वारा प्राप्त नहीं की जा सकतीहैं। लाभार्थी को रेलवे द्वारा दिए फॉर्म को अपने मेडिकल संबंधी दस्तावेजों के साथ भरकर रेलवे स्टेशन से ही टिकट निर्गमित करवानी होती है।

और पढ़ें

गर्भावस्था में सफ़र                                                         पीएनआर कन्फर्मेशन प्रोबेब्लिटी 


One thought on “न लेनी पड़े ये छूट, तो ही अच्छा है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *