Vikash Makkar

पत्रकारिता में पोस्ट ग्रेजुएट व मुख्यधारा की पत्रकारिता के अनुभवी विकास को कविता, ग़ज़ल एवं कहानियाँ लिखने-पढ़ने का शौक़ है। उनका मानना है कि ईमानदारी से अपना परिचय देना यक़ीनन एक मुश्किल काम है। वे बस इतना कहते है कि “मैं एक बहुत ही साधारण किस्म का इन्सान हूँ अगर मेरे बारे में कुछ ख़ास कहने को है तो वो है मेरा “साधारण” होना। एक बीमारी भी है “सोचने की बीमारी” मैं खुद को इससे बचा ही नहीं पाता “जो चल रहा है, जो घट रहा है मैं भी उसी को जीता हूँ, भोगता हूँ, जहाँ तक सब देखते हैं बस मैं उससे थोड़ा आगे देखने की कोशिश करता हूँ। गहराइयों में उतरने की आदत है मेरी, हालाँकि ज़्यादातर लोग इससे डरते हैं, बचते हैं डूबने का खतरा जो होता है। लेकिन मैं अपनी कोशिश जारी रखता हूँ”।


More from the author