Insights into simplifying train travel

यहाँ रेलगाड़ी से बेहतर है बस का सफ़र

वैसे तो सफ़र के लिए हर भारतीय की सबसे लोकप्रिय सवारी हमारी भारतीय रेलवे ही है। सफ़र लम्बा हो या छोटा, शहर से गाँव जाना हो या गाँव से शहर आना हो। भारतीय रेलवे हर तरह के सफ़र के लिए एक अच्छा चुनाव मानी जाती है। मगर भौगोलिक विभिन्नताओं से भरे पड़े भारत में रेलवे हर मुसाफिर को उसकी मंजिल तक पहुंचा सके, इसमें थोड़ी दिक्कत देखने को मिलती है।

ऐसे में बस से सफ़र को एक बेहतरीन विकल्प मानना गलत नहीं होगा। ये उन मुसाफिरों के लिए काफी फायदेमंद होती है जिनके गाँव, नगर के आस-पास रेलवे की सीधी सुविधा नहीं है, या फिर वहां के लिए बस का सफ़र रेलवे के बनिस्बत कई और मायनों में ज्यादा सुखद है। जानिए ऐसे कुछ नगरों एवं भारतीय बस के बारे में-

दिल्ली से लेह-

Delhi to Leh by bus

यदि आप दिल्ली से लेह-लदाख की सैर पर जाना चाहते है तब दिल्ली से लेह के लिए कोई सीधी रेलगाड़ी नहीं है, और प्लेन से जाने में अच्छे-खासे पैसे खर्च हो सकते है।वहीँ आपको श्रीनगर से बस या कैब करनी ही होगी। मगर आपके लिए दिल्ली से लेह के लिए सीधी बस सेवा उपलब्ध है ऐसे में क्यों न दिल्ली से ही बस की सवारी की जाए।

नागपुर से पुणे-

Nagpur to Pune bus service

वैसे तो नागपुर से पुणे जाने के लिए दर्ज़नों ट्रेन्स है, लेकिन यदि बात इस मार्ग की बसों कि की जाए तो वो भी काफी बेहतर है। वहीँ अगर आप नागपुर से पुणे जाने के लिए खर्च होने वाले समय की करे तो वो भी ट्रेन के मुकाबले बस में कम लगता है। औसतन बस से जहां आप 12:30 घंटे में ये दूरी तय कर सकते है वहीँ ट्रेन से आपको 14 घंटे लग सकते है। बस मार्ग पर जहां ये सफ़र औसतन 720 किलोमीटर का है वहीँ ट्रेन से इसमें 889 किलोमीटर की दूरी है। ऐसे में इस मार्ग पर बस की सवारी को एक फायदेमंद सौदा ही कहा जा सकता है।

रांची से सिलीगुड़ी-

Ranchi to Siliguri by bus

झारखण्ड की राजधानी रांची से उत्तर बंगाल के सिलीगुड़ी जाने के लिए सप्ताह में सिर्फ एक ही रेलगाड़ी है। ऐसे में अगर किसी को इमरजेंसी में इस मार्ग पर सफ़र करना हो तो उसके लिए बस सेवा एक उत्तम विकल्प है। आप किसी भी दिन बिना प्लान बनाए सिलीगुड़ी से रांची या रांची से सिलीगुड़ी की बस यात्रा कर सकते है। वैसे भी रांची से सिलीगुड़ी जाने वाली रेलगाड़ी में बस की तुलना में तक़रीबन अढ़ाई से तीन घंटे ज्यादा लगते है। क्योंकि बस से जहां इस मार्ग का सफ़र 668 किलोमीटर का है वहीँ रेलवे के लिए ये सफ़र 729 किलोमीटर का पड़ता है।

गुवाहाटी से शिलोंग-

Guwahati to Shillong by bus

गुवाहाटी से शिलोंग की दूरी ‘100 किलोमीटर’ जो कि कोई बहुत ज्यादा नहीं है। मगर इस मार्ग पर रेल सेवा का विस्तार न होने के कारण यहाँ या तो आपको कैब बुकिंग कर यात्रा करनी होती है या फिर अगर आप बजट में यात्रा करना चाहते है तब स्थानीय बसें ही सबसे सही विकल्प है। आपको बता दें कि शिलोंग एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है इसलिए यहाँ दिन भर बस सेवा उपलब्ध है। साथ ही यहाँ के हाईवे बेहद खुबसूरत है जिनका पूरा मज़ा बस से सफ़र के दौरान लिया जा सकता है।

जमशेदपुर से रक्सोल-

Jamshedpur to Raxaul by bus

जमशेदपुर से रक्सोल जाने के लिए भी कोई सीधी रेलगाड़ी नहीं है। आपको पहले पटना या फिर रक्सोल के आस-पास जाकर फिर वहां से बस सेवा लेनी ही होगी। इससे बेहतर है कि अगर आप जमशेदपुर से रक्सोल जाना चाहते है, तब यहाँ-वहां घूमकर जाने से अच्छा सीधे बस की टिकट ले और आराम से सफ़र करें।

हावड़ा से अंगुल-

Kolkata to Angul by bus

कोलकाता से ओडिशा के अंगुल जाने वाले यात्रियों के लिए सिर्फ दो ही सीधी रेलगाड़ी है। ऐसे में अगर आपको अचानक जाना पड़ जाए तो बस सेवा ही एक ऐसा साधन है जिससे आप किसी भी दिन यात्रा कर सकते है।

चेन्नई से पांडिचेरी

Chennai to Pondicherry by bus

चेन्नई से पांडिचेरी के लिए वैसे तो कई ट्रेन्स है। मगर इस मार्ग के खुबसूरत नजारों को ध्यान में रखते हुए, साथ ही यहाँ की शांतिप्रिय बस सर्विस के हिसाब से ज्यादातर लोग बस सेवा को एक बेहतर साधन मानते है।

और पढ़े

टिप्स फॉर बजट ट्रैवल                                                                                    ऐसे बनाए अपनी यात्रा को सफल

 


2 thoughts on “यहाँ रेलगाड़ी से बेहतर है बस का सफ़र

Leave a Comment

Required fields are marked *